जमुई चैंबर्स ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष डॉ सुनील केसरी ने छोटे व्यवसाइयों के लिए की राहत पैकेज की मांग ।

जमुई
जनादेश न्यूज जमुई
जमुई(अजीत कुमार)कोरोना काल में सरकारी निर्देश के आलोक में लाॅक डाउन से छोटे व्यवसायियों की आर्थिक स्थिति दयनीय होती जा रही हैं। 1अगस्त 2020 से आंशिक रूप से प्रतिष्ठान को खोलने का निर्देश प्राप्त हुआ है। परन्तु व्यवसायियों को कुछ अधिक लाभ प्राप्त नहीं हो पाया है।ऐसी विकट परिस्थिति में दिन प्रतिदिन व्यवसायियों की स्थिति दयनीय होती जा रही हैं। जिला चेम्बर्स ऑफ काॅमर्स, जमुई के अध्यक्ष डॉ सुनील केसरी ने माननीय मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार, बिहार सरकार, केन्द्रीय वित्त मंत्री, श्रीमती सीतारामन, भारत सरकार, केन्द्रीय गृह मंत्रालय, गृह मंत्रालय बिहार सरकार, एवं माननीय जिलाधिकारी महोदय, जमुई को फैक्स के माध्यम से आवेदन भेज कर यह माँग किया की,जिस प्रकार किसानों के फसल नुकसान होने पर राहत पैकेज की घोषणा की जाती है, उसी प्रकार व्यवसायियों को राहत पैकेज की घोषणा की जाय । जो व्यवसायिक लोन लेकर अपना व्यवसाय चला रहे हैं, वो रकम बन्दी के दौरान परिवार के पालन-पोषण में खर्च कर दिये है,अतः कर्ज को माफ किया जाना चाहिए। लोन के E.M.I.को तत्काल छ: माह के लिए वसूली पर रोक लगायी जाय। लाॅक डाउन काल का घरेलू एवं कमर्शियल बिजली बिल की माफी की जाय। सभी प्रकार के प्राइवेट स्कूलों की फीस की माफी की जाय। जो व्यवसायिक किराये के दूकान में अपना कारोबार चला रहे हैं उन्हें मकान भाडा एवं स्टाफ खर्च को हर्जाना के रूप में नगद भुगतान होना चाहिए। जब तक कोरोना संक्रमण की समाप्ति नहीं होती है तब तक सभी टैक्स पर रोक लगायी जाय।उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण के बाद नये सिरे से पूर्ण व्यवसाय करने हेतु सस्ते ब्याज दर पर कर्ज मुहैया करवाई जाय । उपयुक्त मांगों के समर्थन में चेम्बर्स के सचिव शंकर साव,असरफ खान, दिलीप साह, महेश बरनवाल, चन्दकांत भगत, पंकज सिंह, कमल नयन, महेन्द्र बरनवाल, कृष्णा रावत, नितेश केसरी, कन्हैया साह, अभिषेक आनंद, अजीत साह,राजा राम केसरी, गुडु खान, सुबोध केसरी आदि व्यवसायियों ने तत्काल मांगों पर गंभीरता से विचार करने की मांग की है ।