चकाई में भाजपा नेता स्व फाल्गुनी प्रसाद यादव की छठी पुण्यतिथि मनायी गयी।

जमुई
जनादेश न्यूज जमुई।
चकाई(रोहित कुमार)फाल्गुनी प्रसाद यादव कॉलेज के मैदान में स्व०फाल्गुनी प्रसाद यादव की छठी पुण्यतिथि समारोह पूर्वक मनाई गई।इस अवसर पर स्व०फाल्गुनी प्रसाद यादव की पत्नी व चकाई की पूर्व विधायक सावित्री देवी और पुत्र विजय शंकर यादव के द्वारा श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया।पुण्यतिथि के अवसर पर पूर्व विधायक सावित्री देवी और उनके पुत्र विजय शंकर यादव तथा परिवार के सदस्य सहित चकाई के हजारों लोगों ने नम आंखों से स्व फाल्गुनी यादव को श्रद्धाजंलि देकर कार्यक्रम स्थल पर दो मिनट का मौन रख नमन किया। श्रद्धांजलि सभा मे बिहार प्रदेश के कई गणमान्य लोगों ने भाग लिया। इस अवसर पर स्व श्री यादव के समाधि स्थल विद्वान पंडितों द्वारा वैदिक मंत्रोच्चार के साथ पूजन कर पुर्व विधायक की आत्मा की शांति के लिए हवन का आयोजन किया गया।इस मौके पर उनके पुत्र विजय शंकर यादव ने कहा कि पुर्व विधायक स्व यादव चकाई के जनता के दिलो दिमाग पर राज करते थे।स्व यादव चकाई में शिक्षा के प्रति लगाव के लिए हमेशा याद किए जाते रहेंगे।साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि स्व फाल्गुनी यादव के दृढ़ इच्छा शक्ति और अथक परिश्रम का ही परिणाम है कि चकाई प्रखंड के गरीब बच्चे को अब स्नातक की पड़ाई के लिए बाहर नहीं जाना पड़ता है।चकाई में स्नातक कालेज की स्थापना कर यहां के गरीब छात्रों को उचीत पढ़ाई का अवसर प्रदान किया।चकाई के गरीब छात्र उच्च शिक्षा से कहीं वंचित नहीं रह जाए,इसके लिए वे हर क्षण चिंतित रहते थे।स्व यादव चार बार बिहार विधान सभा के लिए चकाई विधान सभा का प्रतिनिधित्व किया।1974 ई०मे स्व फाल्गुनी प्रसाद यादव ने पहली बार तराजू छाप से विधायक बन यह प्रण लिया कि चकाई का कोई भी बच्चा चाहे कितना गरीब हो तालिम जरूर हासिल करेगा।इस प्रण को पूरा करने के लिए स्व फाल्गुनी यादव ने चकाई के बच्चे के लिए 1981 मे पीपीवाई कालेज की नीव रखी। विधायक श्री यादव के मेहनत और लगन का कि स्थानीय पीपीवाई इंटर स्तरीय कॉलेज को 2005 मे डिग्री कालेज की मान्यता दिलाने मे सफल रहे।चकाई मे एक भी सरकारी कॉलेज नहींं है, सिर्फ पीपीवाई ही शिक्षा की अलख को जगाए रखा है।श्रद्धांजलि सभा में राजद के वरिष्ठ नेता जानकी यादव, पीपीवाई कॉलेज के प्रभारी प्राचार्य रविशंकर यादव, श्याम सुंदर राय,श्रीकांत यादव,प्रो नारायण राम,प्रो विद्यानंंद यादव, शिवनारायण यादव,जीतन मरांडी, कन्हैयालाल गुप्ता, धर्मवीर आनन्द, बालमुकुंद राय,बिन्देश्वरी यादव,लालू कुमार यादव,राजेेंद्र यादव, डीपलीस यादव, बाबूराम किस्कु, कार्तिक पासवान, लालू कुमार ललन, अंकित यादव, रोहित यादव, उपेंद्र शर्मा, संतोष यादव, ललन कुमार पासवान, वरुण यादव आदि शामिल थे।