खरना के साथ शुरू हुआ छठ व्रतियों का 36 धंटे का निर्जला उपवास।

जमुई
जनादेश न्यूज जमुई
बरहट ( शशि लाल ) लोक आस्था का महापर्व छठ के दूसरे दिन छठ ब्रतीयों ने खरना किया। इसके साथ ही छठ ब्रतीयों का 36 घंटे का निर्जला उपवास शुरू हो गया। खरना के पूर्व छठ व्रतियों ने अहले सुबह घर की साफ सफाई कर गाय के गोबर से आंगन की लिपाई किया। उसके बाद संध्या स्नान- ध्यान कर मिट्टी ब पित्तल के बर्तन में विधि – विधान से अरवा चावल में गाय की दूध डालकर अरमान बनाया और भगवान भास्कर को भोग लगाकर खरना किया। इसके साथ ही 36 घंटे का निर्जला उपवास रखकर छठ ब्रती ओर श्रद्धालुओं गुरुवार को अस्ताचलगामी सूर्य देव को अर्घ्य देंगे। वही मलयपुर बाजार, पांडो बाजार ,गुगुलडीह बाजार ,बरहट बाजार में फल फूल की दुकान पर श्रद्धालु डाला सजाने के लिए फल -फूल खरीदने पहुंचे। इस दौरान श्रद्धालुओं का भीड़ बाजार में लगा रहा। फल- फूल खरीदने पहुंचे श्रद्धालुओं ने बताया कि पिछले साल की अपेक्षा में इस साल कुछ फलों के दामों में बढ़ोतरी हुयी है कुछ ने कहा कि मिली -जुली दामों में खरीदारी किया हूँ।वहीं बाज़ार में इस प्रकार के दामों में फल बिका केला 60 दर्जन ,पानिफल 80 रुपये किलो,अमरुद 100 रुपये किलो,नारियल40 रुपये पिस, साँचा 80 रुपये किलो के भाव से छठ श्रद्धालुओं ने पूजन सामग्री की खरीदारी की वहीं छठ पर्व आस्था में सभी जगह छठ गीत केरवा के पात पर नेवता भेजाबनी नेवता करीना स्वीकार जी, बहंगी लचकत जाए, मारबोरे सुगवा धनुष आदि से पूरा माहौल भक्तिमय हो गया है।