कृषि के माध्यम से राम राज्य की ओर अग्रसर भाजपा।

जमुई
जनादेश न्यूज जमुई
गिद्धौर(अजित कुमार यादव) आत्मनिर्भर भारत के माध्यम से केंद्र सरकार कृषि क्षेत्र से रक्षा के क्षेत्र तक रामराज्य की ओर अग्रसर है। आज पीएम किसान निधि का छट्ठी किस्त साढे आठ करोड़ किसानों के खाते में सीधे दो-दो हजार रूपये डाल दिया गया। सरकार के प्रयास से कृषि के क्षेत्र में ‘एक देश एक मंडी’ का अभियान जो पिछले 7 वर्षों से चलाया जा रहा था,अपने परिणाम तक पहुंच रहा है। अब किसानों के पास अनेक विकल्प हैं। E-NAM के माध्यम से किसान अपने फसल का उचित सौदा कर सकते हैं। गांव-गांव में बेहतर भंडारण की योजना है जिस पर लगातार काम चल रहा है। साढे तीन हजार कृषि स्टार्टअप को मदद पहुँचायी जा रही है। सभी राज्यो में किसान उत्पादक समूह (FPO)बनाने की योजना है।
एक लाख करोड़ रूपया कृषि इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए देकर सरकार ने कृषि के क्षेत्र में क्रांति का आगाज किया है।इससे गांव-गांव में बेहतर भंडारण, आधुनिक कोल्ड स्टोरेज की चेन तैयार करने में मदद मिलेगी और गांव में रोज़गार के अनेक अवसर तैयार होंगे। किसानों के फसलों की ढूलाई हेतु देश की पहली ‘किसान रेल’ महाराष्ट्र और बिहार के बीच में शुरु हो चुकी है।सरकार ने भी सुनिश्चित किया कि किसान की उपज की रिकॉर्ड खरीद हो जिससे पिछली बार की तुलना में करीब 27 हज़ार करोड़ रुपए ज्यादा किसानों की जेब में पहुंचा है। ये जितने भी कदम उठाए जा रहे हैं, इनसे 21वीं सदी में देश की ग्रामीण अर्थव्यवस्था की तस्वीर भी बदलेगी, कृषि से आय में भी कई गुणा वृद्धि होगी।पिछले सात वर्षो में नीम कोटेड यूरिया, स्वायल हेल्थ कार्ड,फसल बीमा योजना,किसान सम्मान निधि आदि के माध्यम से किसानो की लम्बे समय से टूटी कमर को राहत पहुंचाने का कार्य किया है।हाल में लिए गए हर निर्णय आने वाले समय में गांव के नज़दीक ही व्यापक रोज़गार तैयार करने वाले हैं।आने वाले दिनों में केन्द्र और बिहार की डबल इंजिन की सरकार मिलकर आत्मनिर्भर भारत मे अग्रिम पंक्ति पर बिहार के किसान रहें, इसी योजना पर कार्य हो रहा है।आगामी विधानसभा चुनाव में बिहार की जनता का पूर्ण विश्वास एनडीए गठबंधन को मिलेगा और एक बार पुनः नितीश जी के नेतृत्व में राजग की सरकार बनेगी।