आरटीपीसीआर लैब में कार्यरत लापरवाह कर्मियों के कारण गिद्धौर प्रखंड क्षेत्र में कोरोना जांच में आई भारी कमी

जमुई
जनादेश न्यूज जमुई
गिद्धौर (अजित कुमार)कोरोना महामारी के नए वेरिएंट ओमिक्रोन को लेकर जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग की टीम दिन रात लोगो को जगरुक कर इस महामारी से बचाव हेतु जगरुक करने में लगी है।तो वंही दूसरी ओर दिग्विजय सिंह सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गिद्धौर परिसर में स्थापित आरटीपीसीआर लैब में कार्यरत कर्मियों के लेट लतीफी व लापरवाही का खामियाजा प्रखंड व जिले भर के लोगो को इन दिनों भुगतना पड़ रहा है।बताया जाता है कि आरटीपीसीआर लैब में जिले भर के 250 सौ लोगो के सैंपल जांच हेतु लिया जाता है।जिसमे स्वास्थ्य विभाग के गाइड लाइंस के अनुसार चौबीस से बहत्तर घंटे तक वक्त लगता है।लेकिन दिग्विजय सिंह सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गिद्धौर परिसर में स्थापित उक्त लैब में कार्यरत कर्मियों के मनमाने रवैये के कारण पांच से छह दिनों बाद भी लोगो को कोरोना जांच का रिजल्ट नही मिल पा रहा है।जिससे उक्त इलाके लोग तनाव में है।जिले के बरहट प्रखंड निवासी रवि कुमार यादव,पतसंडा निवासी राजीव कुमार वर्णवाल ने बताया कि हम दोनों ने बीते दिन रविवार को ही अपना कोरोना जांच दिग्विजय सिंह सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गिद्धौर में करवाया था। जिसके बाद आरटीपीसीआर लैब में हम दोनों का स्वैब भेज दिया गया था।और कहा गया था कि मंगलवार को आप दोनो के मोबाइल नंबर पर मैसेज चला जाएगा।लेकिन गुरुवार तक हम को आरटीपीसीआर लैब गिद्धौर की ओर से और नही स्वास्थ्य प्रबंधन की ओर से कोई मैसेज आया है। जिसकी वजह से हम दोनो व हमारे परिजन तनाव में है।खैर जो भी हो इन दिनों जांच लैब कर्मियों के लापरवाह रवैये के कारण इलाके भर के लोग अब अपना कोरोना संक्रमण जांच कराने से कतराने लगे है।जिसकी सुधि लेने वाला कोई नही है।